स्कूल में घुसकर टीचर को ही पाठ पढ़ाने लगा लंगूर, दिया ऐसा ज्ञान टीचर हुए बेहोश

The langur started teaching the lesson to the teacher

कभी-कभी सोशल मीडिया पर चौका देने वाले वीडियो देखने को मिल जाते हैं। एक वीडियो वायरल हो रहा है जो हजारीबाग जिले चौपारण प्रखंड का है। जहां एक स्कूल में लंगूर बच्चों के साथ पढ़ाई करती दिख रहा है। मामला झारखंड बिहार सीमांचल मुख्यालय से 13 किलोमीटर दूर पठार और पहाड़ियों के बीच उच्च विद्यालय ददुआ का है। वह बच्चों के साथ बैठकर एक लंगूर भी पढ़ाई करती दिख रहा है। स्थानीय लोग भी इस अजीबोगरीब घटना से काफी हैरान है जिसके बारे में स्कूल के प्रिंसिपल रतन कुमार वर्मा ने बताया।

कक्षा में आकर बैठ जाता है लंगूर

वीडियो में जैसा आप देख सकते हैं एक लंगूर स्कूली बच्चों के साथ बैठकर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। प्रिंसिपल के अनुसार एक लंगूर रोजाना स्कूल आ जाता है और बच्चों के साथ पढ़ाई करता है। वह भी टीचर की बात बड़े ही गौर से सुनता है। कॉपी पर लिख रहे बच्चों को वह बेहद ही ध्यान से देखता रहता है। यही नहीं टीचर उसे जाने के लिए कहते हैं तो वह जाने से मना भी करता है। जब बच्चे मैदान में होते तो वह भी वहां पर आकर खड़ा हो जाता है। बच्चे भी अब उसे अच्छे से जान चुके हैं तो वह उसे परेशान भी नहीं करते हैं और वह बच्चों को भी परेशान नहीं करता है। हालांकि प्रिंसिपल का कहना है लंगूर के आने से शिक्षक और कभी-कभी बच्चे भी घबरा जाते हैं। यह लंगूर हर दिन क्लास में प्रजेंट जरूर होता है।

हफ्ते भर से लगातार आ रहा बंदर स्कूल

प्रिंसिपल ने बताया लंगूर आया और वह नौवीं कक्षा में बैठकर क्लास में पढ़ा रहे शिक्षक की बातें बेहद ध्यान से सुन रहा था। रविवार को छुट्टी थी उसके बाद सोमवार को जब क्लास करने समय से स्कूल पहुंच गया। यही नहीं बारी-बारी से सभी क्लास में गया सातवीं क्लास में आकर आगे वाली बेंच पर बैठ गया। बच्चे व शिक्षक भगाने का प्रयास करते हैं तो लंगूर गुस्सा आ जाता है। प्राचार्य विद्यालय परिवार की सुरक्षा के लिए वन विभाग से पकड़ने की गुहार लगाई है। गौतम बुद्धा वन्यप्राणी आश्रयणी के 1 कर्मी विद्यालय पहुंचते हैं और काफी कोशिश किया गया बंदर हाथ नहीं लगा और अगले दिन वह फिर वापस समय से विद्यालय पहुंच गया। यह घटना सबको चौंका रही है लेकिन बंदर का यह नियमावली देख सभी हैरानी भी खूब जता रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top